पुराने नजले और जुकाम का आयुर्वेदिक उपचार || Rhinitis/Sinusitis Treatment in Ayurveda

What is Rhinosinusitis (नजला)?

  1. नाक से पानी आना
  2. गाढ़ा बलगम 
  3. छींक आना

हर 8 में से 1 आदमी को Rhinosinusitis हर साल होता है 

Rhinitis

नाक की अंदर की skin में सूजन आना 

Sinusitis

नाक से सिर के अंदर के sinuses में सूजन आना 

प्रतिश्याय (नजला) के लक्षण 

  1. जुकाम होना
  2. नाक से पानी गिरना 
  3. गाढ़ा बलगम आना 
  4. छींक
  5. सिरदर्द
  6. नाक बंद होना 
  7. गला बैठना या दर्द होना 
  8. सांस लेने में तकलीफ होना 
  9. दम फूलना (Breathing Problems)
  10. खांसी (Coughing)
  11. नाक और मुख से दुर्गन्ध आना 
  12. भूख कम होना 
  13. बालों का झड़ना और सफ़ेद होना 
  14. Feverish Sensation
  15. Reduced sensation of Smell

प्रतिश्याय (नजला) के कारण

  1. ओस से (ठण्ड लगने से )
  2. ठंडी हवा से (Cold Allergy)
  3. धूल मिट्टी से (Dust Allergy) 
  4. अधिक सोने से
  5. सूर्योदय के बाद भी सोये रहने से
  6. अधिक जागने से 
  7. जल-वायु बदलने से (Change of Climate)
  8. मल-मूत्र के वेग रोकने से 
  9. अधिक पानी पीने से 
  10. कृमिजन्य (Infection से) 
  11. अजीर्ण (Indigestion से)
  12. ऋतुओं की विषमता से (Abnormal Climate)

Ayurvedic Classification of प्रतिश्याय (नजला) 

  1. वातज (Dryness and pain in the Nose)
  2. पित्तज (Burning and feeling of heat in the Nose)
  3. कफज (Excessive Thick secretions)
  4. रक्तज (Excessive burning and pain in the Nose)
  5. दुष्ट प्रतिश्याय (पीनस) (Mixed complicated symptoms with chronic history)

Line of Treatment for Rhinosinusitis 

अक्षि कुक्षि भवः रोगाः प्रतिश्याय व्रण ज्वराः
पञ्चैते पञ्चरात्रात लङ्घनात नश्यन्ति 

  1. Eye Diseases
  2. Diseases of the Digestive System
  3. Rhinosinusitis (नजला)
  4. Ulceration in the body (जख्म होने पर) 
  5. Fever

These can be healed early by increasing the lightness in the body.

सभी तरह का नया व पुराना नजला 4 महीने से 1 साल तक के समय में आयुर्वेदिक दवा, खानपान में बदलाव, परहेज व जरुरत पड़ने पर पंचकर्म की क्रियाओं से पूरी तरह से ठीक हो सकता है

To do things in Rhinosinusitis (पथ्य)

  1. वायु रहित स्थान (Avoid Air Contact)
  2. सिर व शरीर को ढकना (Covering the head and the body)
  3. जौ की रोटी या जौ का दलिया
  4. रुक्ष भोजन (Less Oily Food) 
  5. ऊष्मा (Heat)

Not to Do Things (अपथ्य)

  1. सिर से स्नान (Head Bath)
  2. शोक/क्रोध/चिंता (Mental Stress)
  3. अधिक सोना (Excess sleep)
  4. ठंडा पानी पीना/ठन्डे पानी से नहाना
  5. मल-मूत्र के वेग रोकना 
  6. मद्यपान (Alcohol Use)
  7. दही/मिठाई/विरूद्ध भोजन/गरिष्ठ भोजन (Heavy food stuffs) 
     
You find it Useful, Share This:

To Know more, talk to our doctor. Dial +91-8396919191